Mata Shailputri: First Avatar of Durga

वंदे वाद्द्रिछतलाभाय चंद्रार्धकृतशेखराम |
वृषारूढां शूलधरां शैलपुत्री यशस्विनीम्‌ ||

Mata Shailputri is a daughter of ‘Parvata raju’ (mountain king) – Himalaya / Himvanth. She is the first among nine avatars of Durga and worshiped on the First day of Navaratri.

In her previous birth, she was ‘Sati Bhavani Mata’, the daughter of King Daksha. Mata Shailputri, also known as Parvati got married with Lord Shiva. On the first day of Durga Navratri,  Paravathi Devi she is worshipped. Mata Shailputri holds a ‘Trishul’, a weapon, in her right hand and a lotus in her left hand. She rides on bull. She has pleasant smile and blissful looks.

Shailputriमां दुर्गा की पहली स्वरूपा और शैलराज हिमालय की पुत्री शैलपुत्री के पूजा के साथ ही दुर्गा पूजा आरम्भ हो जाता है| नवरात्र पूजन के प्रथम दिन कलश स्थापना के साथ इनकी ही पूजा और उपासना की जाती है| माता शैलपुत्री का वाहन वृषभ है, उनके दाहिने हाथ में त्रिशूल और बाएं हाथ में कमल का पुष्प रहता है|

नवरात्र के इस प्रथम दिन की उपासना में योगी अपने मन को ‘मूलाधार’ चक्र में स्थित करते हैं और यहीं से उनकी योग साधना प्रारंभ होता है| पौराणिक कथानुसार मां शैलपुत्री अपने पूर्व जन्म में प्रजापति दक्ष के घर कन्या रूप में उत्पन्न हुई थी| उस समय माता का नाम सती था और इनका विवाह भगवान् शंकर से हुआ था| एक बार प्रजापति दक्ष ने यज्ञ आरम्भ किया और सभी देवताओं को आमंत्रित किया परन्तु भगवान शिव को आमंत्रण नहीं दिया|

अपने मां और बहनों से मिलने को आतुर मां सती बिना निमंत्रण के ही जब पिता के घर पहुंची तो उन्हें वहां अपने और भोलेनाथ के प्रति तिरस्कार से भरा भाव मिला| मां सती इस अपमान को सहन नहीं कर सकी और वहीं योगाग्नि द्वारा खुद को जलाकर भस्म कर दिया और अगले जन्म में शैलराज हिमालय के घर पुत्री रूप में जन्म लिया| शैलराज हिमालय के घर जन्म लेने के कारण मां दुर्गा के इस प्रथम स्वरुप को शैल पुत्री कहा जाता है|

 

Check Also

LeT Div. Comdr killed in Handwara Encounter

A LeT Div. Comdr Abu Musa was killed in an encounter with police and Army …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *