ऐ कलयुग है,कलयुग है मेरे मित्रों

कोई अपनी टोपी ते कोई अपनी पग्ग बेची दिंदा

मिले जे पा चंगा ते जज अपनी कुर्सी बेची दिंदा

पैसे दे बगैर आजकल करदा नि कोई काम

पुलस आला ते चौका च बर्दी बेचीं दिंदा

 

 फुकी दिंदे कुड़िये गी अपने सोरिये दे कार आले

 जिस कुड़ी दे आस्ते प्य्यो अपनी गुर्दे बेचीं दिंदा

 कोई ओवे जे नादान कुड़ी प्यार च कुर्बान

ते उसदा आशिक ओदी वीडियो बेचीं दिंदा 

 s

ऐ सचे कलयुग है दोस्तों, हैरानी नि करो

इथे ते कली, फल, बुट्टे ते फुल माली बेचीं दिंदा

 उसी ते इंसान भी अखने की शर्म औंदी ऐ

जेडा पैसे  आसते अपनी ती-पैन बेचीं दिंदा 

 

 जुआ है ज़िन्दगी मित्रो दिखी चलो

 इक जमाना ओह भी है हा जिस वेल्ले

 युधिष्ठर जुए च अपनी लाड़ी की बेचीं दिंदा 

 ऐ कलयुग है,कलयुग है मेरे मित्रो 

 

Check Also

Praduman Singh-Jammu-Dogri-डोगरी-प्रदुमन सिंह

Jammu loses its devoted Dogri emissary Praduman Singh Jindrahia

With passing away of Legendary Dogri Folk Singer and Poet Praduman Singh Jindrahia, on thursday …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *