दुबदी डोगरी

पाशा भी मीठी ते मिसरी अंगर मिठड़े न अपने लोग

गलांदे हे पहले कि कदू इस्सी राष्ट्रीय पाशा दा रुतवा थोग

अज जदू मिली गया इसी इसदा सम्मान

क्यों नि दिन्ने अस इस्सी इन्ना त्यान

 

स्क्कुले च ना कोई करन दिंदा गल- कथ , ना लगी दी कोई कताब ,

जे पूछो, कुथआ आई ते  के साडा इतिहास, कुस्से कोल नहीं इसदा जवाब

दस्सो हा तुस्स डोगरेयो , पला चंगा है साडा साब-कताब …?

 121

कार कुस्से दे चली जाओ या दिखी लाओ अपने ही नज़ारा

करदे न माँ-पियो भी इस कोला विचार, ना सखांदे ते ना दिंदे बोलन डोगरी

पला कोई पूछे , के माडा है करना अपनी “माँ ” कि प्यार , इए सखांदे साडे संस्कार

दस्सो हा तुस्स डोगरेयो , पला चंगा है साडा वेव्हार   . ..?

 

जनदे न  जिसले निआणे स्क्कुले-कालजे च

करदे न परहेज़,  बोलने कोला डोगरी

पिज्जा ,बर्गर .मोमो इन्ने सारे कि पता

बस नई है इन्ने कि, चरोलियेअ ते बबरुए दा पता

दस्सो हा तुस्स डोगरेयो , पला चंगा है साडा वरताब   . ..?

 

अज मिले दा रुतवा -रुवाव सब कुछ ,

जिस बोली च मीठा रस वसदा ,उम्र रेई जानी ओधि थोड़ी

डर लगदा कुते मुक्की नि जा इसदा बजूद , ते मंग्चे इस्सी बचान वास्ते अस दोबारा पिख

दिन अज भी माडा ते दिन ओह भी माडे  आउने, नई ओनदा है ओह वक़्त कुस्से कुंबे वास्ते ठीक

दस्सो हा तुस्स डोगरेयो , पला माडी है मेरी दलील …?

 

उठो ते उठाओ

सुनो  ते बाकिये कि भी सुनाओ

बोलो ते दुए कोला भी बुलाओ

 

अज ऐ लेख पड़िए करचे एक नई शुरुवात

जगह जगह करचे डुग्गर मेले दा आगाज़

जिथे मिले कोई डोगरा अप्ना

करचे उदे कन्ने डोगरी विच ही गल-काथ

 

जय डुग्गर ते जय डोगरी

 

pramukhindic-dogri

लेखक :-रिताज़ गुप्ता ते राकेश सिंह सम्बयाल

Check Also

Praduman Singh-Jammu-Dogri-डोगरी-प्रदुमन सिंह

Jammu loses its devoted Dogri emissary Praduman Singh Jindrahia

With passing away of Legendary Dogri Folk Singer and Poet Praduman Singh Jindrahia, on thursday …

One comment

  1. Manu Khajuria

    Tanwaad badi jaroori gal uthai tusien. Dogri gi bachana bada jaroori ai.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *